Sunday, March 8, 2020

Custom Domain क्या है और क्यों जरुरी है Blog के लिए(2020)?



हेलो दोस्तों आज के वक़्त में अगर आपको कामयाब होना है तो आपको अपनी खुद की पहचान बनानी होगी तभी आप कामयाब हो सकते हो .वैसे ही अगर आपको ब्लॉग्गिंग में भी कामयाब होना है तो आपको अपनी पहचान बनानी होगी और वो पहचान आप कस्टम डोमेन को इस्तेमाल करके बना सकते हो.

उसके लिए सबसे पहले आपको जानना होगा की custom Domain क्या है और क्यों जरुरी है.


Custom Domain क्या है और क्यों जरुरी है Blog के लिए










ब्लॉग के लिए कस्टम डोमेन नाम क्या है और क्यों जरुरी है?

अगर आप एक ब्लॉगर हो तो आपने कस्टम डोमेन नाम के बारे में सुना ही होगा .
जयादातर ब्लॉगर ब्लॉग्गिंग के लिए दो प्लेटफार्म का इस्तेमाल करते है पहला वर्डप्रेस और दूसरा ब्लॉगर .
अगर आप एक ब्लॉगर है और  वर्डप्रेस का इस्तेमाल करते हैं तो आप डोमेन और होस्टिंग खरीदते हो लेकिन अगर आप ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाते हैं तो आप फ्री में ब्लॉग बना सकते हैं.

जब  एक नया ब्लॉगर ब्लॉग्गिंग करने की सोचता है तो वो फ्री में अपना काम करने की सोचता है और वो ब्लॉगर को चुन लेता  है क्यूंकि ब्लॉगर एक फ्री प्लेटफार्म है ब्लॉग्गिंग करने के लिए .

इसमें आपको गूगल फ्री डोमेन और होस्टिंग दे देता है और उसको इस्तेमाल करके आप आसानी से आपने ब्लॉग बना सकते हैं.

लेकिन इसमें एक दिक्कत ये है की ब्लॉगर आपको जो डोमेन देता है वो कस्टम नहीं होता मतलब वो ब्लागस्पाट के साथ मिलता है .

एक उद्धरण के साथ इससे समझते है . 

For Example: मान लीजिये की आपने अपने ब्लॉग  का नाम है foodrecipes सोचा है , तो अगर आपने कस्टम नहीं लिया तो आपके ब्लॉग का url होगा https://www.foodreecipes.blogspot.com

blogspot.com ये एक subdomain है जो की देखने में अच्छा नहीं लगता इसके लिए हमे एक कस्टम डोमेन की  जरुरत है आपने ब्लॉग को professional look देने  के लिए.


तो चलिए जानते है की कस्टम डोमेन क्या होता है.


Also Read:  Blog कैसे बनाएं Free में?


कस्टम डोमेन क्या होता है?


कस्टम डोमेन वो होता है जिससे आप अपने ब्लॉग/वेबसाइट  को अपनी पहचान दे सकते है.

चलिए इसको एक उद्धरण के साथ समझाते है.

For Example: अगर अपने  एक ब्लॉग बनाया जिसका नाम है www.foodrecipes.com  तो ये आपका कस्टम डोमेन है.

कस्टम डोमेन आपको फ्री में नहीं मिलता इसके लिए आपको कुछ पैसे खर्च करने होंगे.

अगर आपको एक कस्टम डोमेन लेना है तो आपके पास कई websites है जैसे godaddy यहाँ आपको 99rs में एक डोमेन मिल जाता है एक साल के लिए.


Note:  99rs में डोमेन आपको तभी मिलेगा जब godaddy की तरफ से कोई ऑफर चल रहा होगा नहीं तो आपको 600-800 rs के बीच में ही एक डोमेन मिलेगा ये मैंने खुद देखा है इसलिए आपको बता दिया.

जिसको  आप बाद में जब renew कराओगे तो आपको 700-800rs में मिल जायेगा एक साल के लिए.

लेकिन ये आप आसानी से खर्च सकते हो चाहे आप एक student ही क्यों न हो  क्यूंकि ये कोई बहुत बड़ी रकम नहीं है.

अब अपने ये तो समझ लिया की कस्टम डोमेन क्या होता है.

चलिए अब जानते है की कस्टम डोमेन की हमे क्यों जरुरत है.?


Also Read : Domain कैसे ख़रीदे Godaddy और Bigrock से [step by step] हिंदी में?



कस्टम डोमेन की हमे क्यों जरुरत है?



1. याद रखने में आसानी - कस्टम डोमेन की हमे इसलिए जरुरत है क्यूंकि हमे इसको याद रखने में आसानी होती है.

मान लीजिये की डोमेन नाम है www.foodrecipe.blogspot.com तो ये domain name याद रखने में लोगों को परेशानी होगी क्यूंकि इतना लम्बा domain name बहुत लोगों को याद नहीं रहता.

जिसकी वजह से आपके users आपके ब्लॉग पर नहीं पहुंच पाते और आपके ब्लॉग का traffic कम होने लगता है.

तो ये एक बहुत बड़ा कारण है custom domain लेने का.


2.  आपको professional दिखाता है - अगर आप कस्टम डोमेन लेते हो तो ये आपको professional दिखाता है मतलब आपके visitors आपके ब्लॉग पर भरोसा करते है और सोचते है की हाँ ये कोई genuine बन्दे का ब्लॉग है.


आप खुद ही सोचो अगर आप  गूगल पर कुछ भी सर्च करते हो और आपके जो भी results आते है आप उनमें से किस पर क्लिक करना पसंद करते हो.

जाहिर सी बात है blogspot के बिना वालों पर क्यूंकि आप ये सोचते हो की www.blogname.com ज्यादा भरोसेमंद है www.blogname.blogspot.com से.

तो ये भी एक कारण है कस्टम डोमेन नाम इस्तेमाल करने का.


3.  आपके Visitors आपको Seriously  लेते है- कस्टम डोमेन नाम इस्तेमाल करने से लोग आपको seriously लेते है वो ये सोचते है की जिस बन्दे ने पैसे खर्च करके ब्लॉग बनाया है वो ब्लॉग्गिंग के लिए serious होगा नाकि सिर्फ ऐसे ही मज़े के लिए ब्लॉग्गिंग कर रहा होगा.

4.  Search Engine Ranking - इससे आपकी search engine ranking भी improve होती है क्यूंकि ज्यादातर search engine जैसे google etc blospot.com के बजाये कस्टम डोमेन को ही prefer करते है.

5.  Adsense Approval - इससे आपको adsense account approve कराने में भी आसानी होती है.

6.  Custom Email Id - इसकी हेल्प से आप अपनी custom email id भी बना सकते हो.
जैसे आप normal gmail के बजाये कस्टम ईमेल id contact@foodrecipes.com भी इस्तेमाल कर सकते हो.



कस्टम डोमेन को बाद में  लेने के  नुक्सान ?



1. DA पर असर - इससे हमारा ये मतलब है की जैसे आपने एक ब्लॉग बनाया और आप उसको subdomain पर ही चलाते रहे और बाद में आपके मन में आया की अब मैं इसको custom domain पर shift कर देता हूँ.

तो इसमें समस्या हो जाएगी आपके ब्लॉग का DA zero हो जायेगा जिससे आपकी की हुई सारी मेहनत बेकार हो जाएगी.

2. Google Search Console and GoogleAnalytics Update - आपको अपने ब्लॉग को गूगल में index करने के लिए दोबारा से गूगल सर्च कंसोल और गूगल एनालिटिक्स को अपडेट करना होगा.

3. Sitemap दोबारा Submit -आपको सारे search engines में फिर से sitemap submit करना होगा.


4. Social Media Profile Update - आपको अपने  सारे  social media handles को अपडेट करना होगा.

5. Backlinks Lost - आपने आपने ब्लॉग के लिए जितने भी backlinks बनाये होंगे वो सब backlinks ख़तम हो जाएंगे आपको फिर से सारे बैकलिंक्स बनाने पड़ेंगे जो की एक बहुत timeconsuming process है.

6. Domain Not Available -इसके अलावा अगर आप बाद में कस्टम डोमेन बुक करोगे तो ये भी हो सकता है की वो डोमेन किसी और ने पहले ही खरीद लिया हो.

तो इसलिए ये बहुत जरुरी है की आप जैसे ही ब्लॉग बनाएं साथ ही एक custom domain name जरूर ख़रीदे जिससे आपको बाद में कोई दिकत न हो.


Conclusion

तो दोस्तों आज के इस पोस्ट में हमने आपको बताया की आपके ब्लॉग के लिए custom domain क्यों जरुरी है और अगर आप बाद में इससे लोगे तो आपको क्या क्या नुक्सान हो सकते है.

अगर आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगी तो please इसे शेयर करें.

तो हमे उम्मीद है की आपको हमारी ये पोस्ट अच्छी लगी होगी अगर अब भी आपका कोई सवाल है इस पोस्ट से रिलेटेड तो आप हमसे comment section में पूछ सकते है.



Thank You

0 comments:

हेलो दोस्तों प्लीज स्पैम कमैंट्स न करें ,पोस्ट कैसी लगीं जरूर जरूर बताये और
पोस्ट शेयर जरूर करे।